SIP के साथ निवेश करना आसान

सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान व्यवस्थित निवेश योजना हैं जिसे एसआईपी प्लान कहते है, एसआईपी म्यूचुअल फंड निवेश का एक स्मार्ट तरीका है। (एसआईपी) एक निवेश वाहन है जो निवेशकों को कई म्यूचुअल फंडों द्वारा प्रदान किया जाता है, जिसमें उन्हें समय-समय पर छोटी मात्रा में निवेश करने की अनुमति मिलती है।

सिप के फायदे

1) एसआईपी आपके म्यूचुअल फंड निवेश को परेशानी मुक्त और सीधा बनाता हैं।

2) एसआईपी में एकमुश्त रकम के बजाय समय-समय पर छोटी मात्रा में निवेश करने की अनुमति मिलती है।

3) आप एसआईपी का उपयोग करके डिसिप्लिन और फेज्ड तरीके से निवेश कर सकते हैं। SIP 100 रुपये के साथ आपको अपना निवेश शुरू करने की सुविधा देता है।

4 ) SIP के साथ आप बाजार में कम समय दे सकते  है। बाजार कम होने पर वही सिप में अधिक यूनिट खरीदे जाते है।

5) SIP RD ओर FD की तुलना में दो गुना अधिक रिटर्न देता हैं| 

6) निवेश की आवृत्ति आमतौर पर साप्ताहिक, मासिक या क्वाटर्ली होती है। लेकिन SIP में राशि आपके बैंक खाते से अपने-आप डेबिट होती है, और आपकी म्यूचुअल फंड योजना में निवेश होती है। 

7) एसआईपी आपकी खरीदी लागत का औसत और रिटर्न को अधिकतम करने में आपकी मदद करते हैं। जब आप बाजार की स्थितियों की परवाह किए बिना नियमित रूप से निवेश करते हैं, तो आपको अधिक इकाइयां मिलती हैं, और बाजार कम होने पर कम इकाइयां। यह आपकी म्यूचुअल फंड इकाइयों की खरीद लागत का औसत निकालता है।

8) जब आप लंबी अवधि के लिए निवेश करते हैं और अपने निवेश द्वारा अर्जित रिटर्न पर रिटर्न कमाते हैं,तब  आपका पैसा कमाना शुरू हो जाता हैं। यह आपको एक बड़े कॉर्पस का निर्माण करने में मदद करता है जो आपको नियमित छोटे निवेशों के साथ अपने लॉन्ग-टर्म वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने में भी मदद करता है।

SIP के माध्यम से निवेश क्यों करें

1) "सेव फर्स्ट, स्पेंड नेक्स्ट सिप का कॉन्सेप्ट "सेव फर्स्ट, स्पेंड नेक्स्ट" के दर्शन पर केंद्रित है, एसआईपी के साथ, आप एकमुश्त निवेश करने के बजाय निश्चित अंतराल (साप्ताहिक, मासिक या क्वाटर्ली ) भी थोड़ी - थोड़ी मात्रा में निवेश कर सकते हैं।

2) नियमित रूप से निवेश  सिप आपके जीवन में फाइनेंसियल डिसिप्लिन प्रदान करता है, यह आपको बाजार के मूड, इंडेक्स स्तर आदि में बिना फसे  नियमित रूप से निवेश करने में मदद करता है|

3) निवेश करना आसान आप अपने समय के अनुसार, बाजार की स्थितियों में सोचते हैं और फिर निवेश करने के बारे में सोचते हैं। यहाँ एसआईपी इन सभी का अंत करता है। ओर आपके बिना किसी भी प्रयास के योजना में पैसा नियमित रूप से निवेश किया जाता है।

4)  फ्लैक्सीबल  सिप एक आसान निवेश योजना है। जिसमें आपके पैसे आपके बैंक खाते से अपने आप  डेबिट हो जाते है, और एक विशिष्ट म्यूचुअल फंड स्कीम में निवेश होते है। ओर बाजारी दर (एनएवी या शुद्ध परिसंपत्ति मूल्य) (net asset value ) के आधार पर कुछ निश्चित इकाइयाँ अलॉटेड की जाती हैं।

5) सिप में निवेश रोकना आसान  एक बार में एक बड़ी राशि के बजाय मासिक आधार पर छोटी मात्रा में निवेश करने का मतलब है कि निवेशक किसी भी समय निवेश को रोक सकता है। एक रेयर और दुर्भाग्यपूर्ण (unfortunate)  केस में कि एक अच्छा प्रदर्शन करने वाले फंड में फंड मैनेजर में बदलाव होता है, या एक जोखिम भरा निवेश अच्छी तरह से पैन नहीं करता है, या विस्तारित समय के लिए औसत रिटर्न के नीचे फंड प्रदर्शित होता है, तो निवेशक एसआईपी में निवेश करना बंद कर सकता है। और किसी भी नकारात्मक रिटर्न को वापस ले कर एक अच्छे पर्फ़ोम करने वाले फंड में निवेश कर सकता है।

6) कंपाउंडिंग एसआईपी के माध्यम से निवेश स्कीम में  की गई कमाई को वापस निवेश में जोड़ा जाता है, जिससे इसका मूल्य बढ़ता है। चूंकि निवेश की अवधि के दौरान निवेश किया जाता है, इसलिए अधिक आय की अनुमति देने के लिए आय को जोड़कर कुल आय में वृद्धि की अनुमति दी जाती है।

7) वित्तीय डिसिप्लिन यह स्थापित करके कि हर महीने एक निवेश किया जाना है, एक व्यक्ति वित्तीय अनुशासन स्थापित कर सकता है।एसआईपी के साथ आपके खर्च को हर महीने निवेश के रूप में सूचीबद्ध किया जा सकता है, ओर शेष आय को योजनाबद्ध और अनुशासित तरीके से महत्वपूर्ण खर्चों में विभाजित किया जाता है।

8) सुविधा एसआईपी में निवेश करने के लिए निवेशकों को किसी के पास जाने की कोई ज़रूरत नहीं है। हर महीने किसी विशेष तारीख को निवेशक के बैंक खाते से राशि अपने-आप  ही काट ली जाती है। इन्वेस्टमेंट की स्थिति, इसके रिटर्न जनरेटेड आदि सभी प्रकार कि जानकारी डैशबोर्ड में ऑनलाइन ट्रैक की जा सकती है। निवेशक निवेश की आवश्यक आवृत्ति (frequency ) निर्धारित करने के लिए पोस्ट-डेटेड चेक सेट कर सकते हैं ताकि, ये सुनिश्चित हो सके कि नियमित निवेश हो रहा है।

सिप का चयन कैसे करें 

एसआईपी की अवधि एसआईपी म्यूचुअल फंड की अवधि जोखिम, रिटर्न और कर की दृष्टि से एक महत्वपूर्ण कारक है।कम से कम 5 साल का संदर्भ बिंदु रखें और जांचें कि फंड ने बाजारों में कैसा प्रदर्शन किया है।

फंड हाउस एसआईपी फंड हाउस की प्रतिष्ठा एक महत्वपूर्ण फैक्टर है,जो फैक्टर यह बताता है कि एक योजना का चयन करते समय, वे अपने निवेशकों के प्रभाव को बिना महसूस किए बाजार के उतारव -चढ़ाव को संभालने में कितना सक्षम हैं।

सिप में कैसे निवेश करें 

निवेश लक्ष्य निर्धारित करें

प्रत्येक म्यूचुअल फंड का एक विशिष्ट लक्ष्य और उद्देश्य होता है,जिसे आपको अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप चुनना होता हैं।अपने वित्तीय लक्ष्यों और आय विवरणों के अनुसार आप आपनी लिए योजनाएं तैयार कर सकते हैं।

जरूरतों के आधार पर चयन

अपनी व्यक्तिगत जरूरतों के आधार पर एक सूचित निर्णय लें और एक व्यवस्थित निवेश योजना म्यूचुअल फंड चुनें जिसमें आप निवेश करना चाहते हैं। 

के वाईसी

सभी म्यूचुअल फंड निवेश केवाईसी दस्तावेजों ,नेट बैंकिंग और चेक को भी अनिवार्य करते हैं। आप आसानी से अपने घर या कार्यालय से सभी दस्तावेजों को ऑनलाइन अपलोड कर सकते हैं।

Comments

Send Icon